Header Ads Widget

Ticker

6/recent/ticker-posts

सलीम शाह मक़बरे के तालाब को अतिक्रमण मुक्त कराने के लिए निवेदिता सिंह ने सदन में उठाई आवाज

 


52 बीघे में फैले सासाराम के ऐतिहासिक सलीम शाह मक़बरे के तालाब को अतिक्रमण से मुक्त कराने के लिए बिहार विधान परिषद सदस्य निवेदिता सिंह ने सदन में उठाई आवाज

सासाराम (रोहतास) : R1news Desk 

शहर में अवस्थित वार्ड नंबर एक तकिया मोहल्ले में अवस्थित सलीम शाह का तालाब जो 52 बीघे में बना हुआ है। आज चारों तरफ से नाली का पानी उसमें जमा होता है और कूड़ा कचरा फेंका जाता है। 

बता दें कि इस ऐतिहासिक मकबरे के परिसर के चारों तरफ से अतिक्रमण किया जा चुका है। इन सारी समस्याओं के निदान के लिए बिहार विधान परिषद में निवेदिता सिंह सदस्य बिहार विधान परिषद ने प्रश्न उठाया। 

बिहार विधान परिषद में श्रीमती सिंह ने प्रश्न उठाया कि एक तरफ सरकार जल जीवन हरियाली को प्राथमिकता देती है और वहीं दूसरी तरफ इतना बड़ा तालाब सूखने के कगार पर है। जबकि पहले इसमे लोग स्नान करते थे।  इसका पानी घरों में जाता था। 

आगे श्रीमती सिंह ने कहा कि इसके एक हजार मीटर की परिधि में कोई भी चापाकल जल्दी सूखता नहीं था। चापाकल धीरे-धीरे मार्च महीने में ही सूखने लगे। सरकार तालाब को सही सलामत पूर्व की स्थिति में लाकर खड़ा करें, ताकि तकिया मोहल्ला पुनः एक बार पानी की किल्लत से उबर सकें। 

दूसरी तरफ शहर की दूसरी सबसे बड़ी समस्या पेयजल पर भी प्रश्न उठाया। सासाराम शहर में पेयजल की समस्या शहर वासियों के लिए दिनचर्या से बन चुकी है। पूरा शहर पेयजल संकट से जूझता रहता है। 

श्रीमती निवेदिता सिंह सदस्य बिहार विधान परिषद ने सदन में शहर की गंभीर पेयजल समस्या को उठाया और सदन में उन्होंने बोला कि आए दिन लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण रोहतास द्वारा सासाराम शहर को पानी निरंतर उपलब्ध नहीं कराया जाता है। 

उन्होंने कहा कि शहर के विभिन्न इलाकों में पेयजल आपूर्ति वाला पाइप फटा पड़ा है, जिससे पानी जब आता है तो पानी की बर्बादी होती है और जब पानी बंद हो जाता है तो उस फटे हुए पाइप के माध्यम से गंदा पानी पाइप के अंदर जाता है जो कि एक अभिशाप के रूप में है। 

निवेदिता सिंह ने बताया कि स्वच्छ और शुद्ध पानी आपूर्ति करना सरकार की प्राथमिकता है। यदि ऐसा उपलब्ध नहीं होता है तो शहर में तरह-तरह की बीमारी उत्पन्न होगी। स्वच्छ पानी उपलब्ध कराना हमारी प्राथमिकता है। इसके लिए ठोस कदम उठाए जाने की जरूरत है।